फर्जी प्रमाण पत्रों से गुरूजी बने,2 शिक्षिकाएं व 2 शिक्षक नौकरी से बर्खास्त  

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के गाजीपुर शिक्षक पात्रता परीक्षा के फर्जी प्रमाण पत्रों के आधार पर पिछले कई साल से नौकरी करने वाले शिक्षकों के खिलाफ बीएसए ने कार्रवाई तय कर दी।

बीएसए ने सचिव माध्यमिक शिक्षा परिषद की सत्यापन रिपोर्ट के आधार पर चार शिक्षकों की बर्खास्तगी कर रिपोर्ट दर्ज कराने के निर्देश दिए हैं। शिक्षा विभाग की जांच में चार शिक्षक-शिक्षिका टेट का फर्जी प्रमाणपत्र लगाकर नौकरी करते पाए गए। इसके अलावा कई शिक्षक जांच के दायरे में हैं।

बीएसए श्रवण कुमार के अनुसार शिकायत मिली थी कि चार शिक्षक-शिक्षिका टेट का फर्जी प्रमाणपत्र लगाकर शिक्षण कार्य कर रहे हैं।

इस पर भदौरा ब्लाक के सेवराई गांव में स्थित कन्या प्राथमिक विद्यालय पर कार्यरत दुल्लहपुर के अमारी निवासी सहायक अध्यापक सौरभ अवस्थी, सादात ब्लाक के मिर्जापुर प्रथम प्राथमिक विद्यालय पर कार्यरत आजमगढ़ के मेहनगर थाना के नरसिंहपुर निवासी सहायक अध्यापक रेनू यादव, जखनिया ब्लाक के विथरिया प्राथमिक विद्यालय पर तैनात आजमगढ़ के मेहनगर थाना के नरसिंहपुर निवासी सहायक अध्यापक अंजलि यादव और चौजाखास प्राथमिक विद्यालय पर तैनात भुड़कुड़ा थाना क्षेत्र के बिजहरी निवासी सहायक अध्यापक रंजना यादव का टेट का प्रमाणपत्र का सत्यापन कराया तो चारों की डिग्री फर्जी निकली। इस पर इन सभी को बर्खास्त कर दिया गया।