कड़ाके की ठंड बन रही काल, हार्ट व ब्रेन स्ट्रोक से 24 घंटे मे 25 की मौत, बढ़ रहे रोगी, डाॅक्टरों की  सलाह

In Jaipur, the servant did such a thing with the doctor, you will also be surprised

नई दिल्ली/ नए साल की शुरुआत के साथ ही उत्तर भारत में हाड़ कंपा देने वाली सर्दी में आम जनजीवन को पूरी तरह से अस्त-व्यस्त कर कर रख दिया है।

वही यह कंपकपा देने वाली ठंड यमराज बन गई है और देश के कानपुर शहर में बीते 24 घंटों के दौरान ठंड के कारण हार्ड अटैक और ब्रेन स्ट्रोक से 25 रोगियों की मौत हो गई है।

नए साल की शुरुआत के साथ ही उत्तर भारत में पड़ रही कड़ाके की ठंड ने आम जनजीवन को बेहाल कर दिया है और साथ ही इस ठंड के कारण हार्ड अटैक और ब्रेन स्ट्रोक के रोगी की संख्या भी बढ़ने लगी है।

उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर में हृदय संस्थान में पिछले 24 घंटों के दौरान हार्ड अटैक और ब्रेन स्ट्रोक से 25 रोगियों की मौत हो गई हृदय संस्थान के चिकित्सकों के अनुसार पिछले 24 घंटे के दौरान 723 रोगी हार्टअटैक के आए ।

इनमें से 39 रोगियों का ऑपरेशन करना पड़ा तथा 7 लोगों की इलाज के दौरान ही मौत हो गई इसके अलावा 17 हृदय रोगी तो कार्डियोलॉजी की आपातकालीन स्थिति तक भी नहीं पहुंच पाए उन्हें चक्कर आए बेहोश हुए और उनकी मौत हो गई।

यह करे उपाय और रखे सावधानी

कार्डियोलॉजी स्पेशलिस्ट और चिकित्सकों के अनुसार शीत लहर में रोगी ठंड से बचाव रखें जरूरत पड़ने पर ही बाहर निकले तक कान नाक और सिर को गर्म कपड़ों से ढक कर ही बाहर निकले।

इसके अलावा 60 साल से अधिक की आयु के स्त्री पुरुष सी प्लेयर में बाहर ना निकले तथा हृदय रोग वाले लोगों को रात में हल्का भोजन करना चाहिए क्योंकि रात में जब ठंड बढ़ जाती है।

तो ब्लड हार तक जाने की वजह से इंटेस्टाइन(आंत) तक पहुंच जाता है इसलिए हल्का भोजन करें ताकि ज्यादा से ज्यादा ब्लड हद तक पहुंच सके।