स्कूल में कक्षा 8 की छात्रा की हार्टअटैक से मौत

नई दिल्ली/ कड़ाके की हाड़कंप कपा देने वाली सर्दी में हार्ट अटैक और ब्रेन स्ट्रोक की संभावनाएं अधिक बन जाती है ऐसा चिकित्सकों का मानना है और यह हार्ड अटैक बढ़ो और बुजुर्गों में नहीं मासूम बच्चों में भी हो सकता है ।

इसका प्रत्यक्ष उदाहरण गुजरात के राजकोट स्थित एक विद्यालय में घटित हुआ जहां आठवीं कक्षा में पढ़ने वाली एक छात्रा की तेज सर्दी के कारण हार्ड अटैक आने से स्कूल में ही मौत हो गई।

सूत्रों के अनुसार गुजरात के राजकोट के जैसा नी स्कूल में कक्षा आठवीं में अध्ययनरत छात्रा रिया सवेरे 7:00 बजे स्कूल पहुंची थी और इसके बाद 7:30 बजे प्रार्थना करके 8:00 बजे क्लास रूम में पहुंची इस दौरान से तेज ठंड लग गई थी और अचानक वह बेहोश हो गई और बेंच पर गिर गई।

छात्रा को स्कूल प्रशासन ने तुरंत अस्पताल लेकर पहुंचा जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया परिजनों का आरोप है कि ठंड की वजह से छात्रा को अटैक आया और उनकी बेटी को तत्काल उपचार न मिलने की वजह से मौत हो गई वह चिकित्सकों के अनुसार भी छात्रा की मौत अधिक ठंड के कारण अटैक आने से हुई है।

चिकित्सकों के अनुसार अत्यधिक ठंड के कारण खून जम जाता है और इसे हार्ड अटैक और ए ब्रेन स्ट्रोक होने की संभावनाएं बढ़ जाती है ऐसे में शरीर को गर्म रखने के लिए स्वेटर जैकेट और ठंड से बचाव के पूरे साधनों 7 कान को ढकने के लिए स्कॉर्पिया मफलर हाथ में दस्ताने पैरों में मौजे आदि का भी उपयोग करना चाहिए ।

फिलहाल इस घटना को लेकर छात्रा के परिजनों ने स्कूल प्रबंधन को दोषी ठहराते हुए कार्यवाही की मांग की है वही इस मामले को लेकर राज्य सरकार ने स्कूल प्रशासन से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है।