दिल्ली देश

750ML व्हिस्की की बोतल साढ़े 6 करोड़ की, फिर भी डिमांड 

नई दिल्ली/ व्हिस्की एक बोतल की कीमत लाखों रुपए यह तो आपने सुना और पढ़ा होगा लेकिन 750 एम एल की एक विस्की की बोतल की कीमत 6:30 करोड़ रुपए है और उसके बाद भी उसके पीने वाले शौकीन लोगों की यह जिसकी इतनी पसंद है कि इस व्हिस्की की डिमांड है आखिर क्या है इसकी में जो इसकी कीमत कितनी है आइए जानते हैं।

इसकी व्हिस्की का ब्रांड नेम है यामाडाकी-55 यह व्हिस्की जापान में निर्मित की गई है और इसकी को बनाने में 55 साल लगे हैं और यह आज तक जापान की सबसे महंगी व्हिस्की मानी जाती है ।

दुनिया के सबसे महंगे आर्ट वर्क, ज्वैलरी, और लग्जरी आइटम की नीलामी करने वाली कंपनी सूदबाइज की वेबसाइट के अनुसार एक नीलामी में यामाजीकी-55 की 750 ML की बोतल की अधिकतम बोली( कीमत) 780000 डाॅलर अर्थात 6.50 करोड ऊपर लगाई गई हैै। 

फोर्ब्स की वेबसाइट पर प्रकाशित एक आर्टिकल के अनुसार इस व्हिस्की की डिटेल बेस्ट प्राइस $60000 अर्थात उन 4000000 रुपए के लगभग है इस व्हिस्की को बनाने वाली कंपनी का नाम बीम संटोरी बताया जाता है ।

बताया जाता है कि यह व्हिस्की सन 2020 में बाजार में उतारी गई थी तब इसकी केवल 100 बोतलें ही बनाई गई थी भारतीय बाजार में यामाजाकी-12 व्हिस्की 10 से 15 हजार रूपये मैं उपलब्ध हो जाती है।

इस व्हिस्की को जापान के सबसे पुराने शराब कारखाने यामाजाकी की डिस्टलरी ऑफ संटोरी मैं तैयार किया जाता है व्हिस्की में मौजूद फ्लेवर कलर और टेक्सचर के कारण महंगी है । यामाजाकी-55 व्हिस्की को एक खास पीपे में स्टोर करके रखा जाता है।

जिसे मिजूनारा कास्क कहा जाता है । मिजौनारा कास्क पेड की लकडी से बनाया जाता है यह पेड़ बड़ा ही दुर्लभ होता है और मिजुनारा कास्क बनाने के लिए पेड़ कम से कम 200 साल पुराना होना जरूरी है यह लकड़ी इतनी खास होती है कि इसमें वर्षों तक शराब रखने के बाद भी उसका फ्लेवर आम अमेरिकन लकड़ी से तैयार पीपो में रखी शराब से बिल्कुल अलग हो जाता है ।

मिजुनारा कास्क के कारण उत्पन्न हुए दुर्लभ चंदन की सुगंध और फलों वाले मीठे और स्मोकी फ्लेवर के कारण ही यामाजाकी-55 व्हिस्की को लोग पसंद करते हैं और इसकी डिमांड है यही नहीं इस विस्की की बोतल भी एक खास किस्म के बॉक्स में आती है इस बॉक्स को भी जापानी मिजुनारा लकड़ी से ही बनाया जाता है ।

Dr. CHETAN THATHERA
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम