बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के भाई के सरेंडर करने से गिरोह मे मची खलबली

लखनऊ/ मऊ से विधायक एवं बाहुबली मुख्तार अंसारी के खेमे में शनिवार सुबह से सरगर्मी तेज हो गई, जब वाराणसी के अपराधी भाई मेराज अहमद ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। मुख्तार अंसारी के गिरोह से जुड़े पश्चिम उत्तर प्रदेश के सफेदपोश नेताओं और अपराधिक गिरोह में भी पुलिस की गतिविधि को लेकर लुकाछिपी …

बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के भाई के सरेंडर करने से गिरोह मे मची खलबली Read More »

October 3, 2020 3:57 pm

लखनऊ/ मऊ से विधायक एवं बाहुबली मुख्तार अंसारी के खेमे में शनिवार सुबह से सरगर्मी तेज हो गई, जब वाराणसी के अपराधी भाई मेराज अहमद ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। मुख्तार अंसारी के गिरोह से जुड़े पश्चिम उत्तर प्रदेश के सफेदपोश नेताओं और अपराधिक गिरोह में भी पुलिस की गतिविधि को लेकर लुकाछिपी तेज हो गई है।

बता दें कि मेराज अहमद जोकि पिछले वर्ष जुलाई में कुख्यात अपराधी मुन्ना बजरंगी की जेल में हत्या के बाद सुर्खियों में आया था। मुख्तार अंसारी गिरोह का सहयोगी मेराज मूलतः गाजीपुर का रहने वाला है और वाराणसी में दालमंडी का निवासी है। वाराणसी में मेराज पर अवैध असलहा के कारोबार से जुड़े होने का आरोप लगा था। मेराज के विरुद्ध जैतपुरा थाना में दर्ज एफआईआर में उसने खुद को सरेंडर कर दिया।

भाई मेराज के सरेंडर की खबर पूर्वांचल से होते हुए लखनऊ, सहारनपुर, आगरा, बागपत और गाजियाबाद तक पहुंच गई। इन जनपदों में मुख्तार अंसारी गिरोह के सफेदपोश नेताओं एवं अपराधियों में मेराज के सरेंडर होने के बाद पुलिस का भय सताने लगा। बताया जा रहा है कि भाई मेराज के सरेंडर करने से मुख्तार अंसारी गिरोह के चेहरों में कई ने अपनी लोकेशन बदली है। पश्चिम उत्तर प्रदेश में फैले मुख्तार अंसारी गिरोह के लोकेशन बदलने से पूर्वांचल में बैठे गिरोह सदस्यों की भी लोकेशन की जांच पुलिस करा रही है।

मुख्तार अंसारी गिरोह पर शिकंजा कसने को लेकर उत्तर प्रदेश पुलिस के आला अधिकारियों के एक के बाद एक बैठको का दौर चला।

इस दौरान लखनऊ, गाजीपुर, मऊ, वाराणसी में मुख्तार अंसारी गिरोह के अवैध संपत्ति व उनके गिरोह से जड़े सदस्यों पर एक के बाद एक कार्रवाई हुई। बीते दिनों लखनऊ में प्रदीप सिंह के आवास पर छापेमारी इसी का परिणाम था। मुख्तार अंसारी के पुत्र अब्बास अंसारी के पीछे लगी एसटीएफ भी इसी का परिणाम है।

Prev Post

लाश नही निकल रही तो कोई बात नही हमे तो मुआवजा राशि दे दो और..

Next Post

हाथरस के निलंबित एस पी विक्रांत रहे हमेशा विवादित

Related Post

Latest News

सचिन पायलट के विधायक जोड़ो अभियान को धक्का, जिन विधायकों से संपर्क किया वो सीएम के पास पहुंचे 
पटवारी 20 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों अरेस्ट
राजकुमार शर्मा को ब्रेन हेमरेज

Trending News

वसुंधरा राजे के बाद अब सतीश पूनिया ने भी की भी त्रिपुरा सुंदरी मंदिर में पूजा-अर्चना
कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष होंगे खड़गे,8 अक्टूबर को हो सकती घोषणा
राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी

Top News

सचिन पायलट के विधायक जोड़ो अभियान को धक्का, जिन विधायकों से संपर्क किया वो सीएम के पास पहुंचे 
टोंक शांति एवं सद्भावना समिति की बैठक आयोजित
जयपुर को मिली एबीवीपी के राष्ट्रीय अधिवेशन की मेजबानी, अमित शाह करेंगे उद्घाटन सत्र में शिरकत
विजयादशमी पर  जयपुर में 29 स्थानों पर संघ का पथ संचलन, शस्त्र पूजन व शारीरिक प्रदर्शन भी होंगे
वसुंधरा राजे के बाद अब सतीश पूनिया ने भी की भी त्रिपुरा सुंदरी मंदिर में पूजा-अर्चना
टोंक जिला स्तरीय राजीव गांधी युवा मित्र प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित%%page%% %%sep%% %%sitename%%
Upload state insurance and GPF passbook in new version of SIPF
मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना से सुमन, रिजवाना बानो एवं दिनेश को मिली राहत
पटवारी 20 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों अरेस्ट
राजकुमार शर्मा को ब्रेन हेमरेज